• Aajtak | 14-Jul-2021 19:55

    पैसों की ऐसी तंगी की अपने मैडल बेचने को तैयार ये दिव्यांग एथलीट

    गरीबी और लाचारी का आलम ऐसा कि महज पांच हजार के लिए वो अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप में भाग नही ले पाया.ना उसके पास पैसे थे और ना ही किसी ने उसकी मदद की थी

Redirecting to the full story in:

00:10 seconds